Sar Dard ka ilaaj | सिर दर्द से हैं परेशान ? आजमाएं ये 11 नुस्खे, मिलेगा तुरंत आराम

कहने को सिरदर्द एक छोटी सी सामान्य समस्या है। मगर कभी-कभी इसी सिरदर्द की वजह से पूरा रूटीन डगमगा जाता है। बहुत से लोगों को तो सिरदर्द से छुटकारा पाने के लिए दवाइयों तक का सहारा लेना पड़dawaiyता है मगर कुछ देर के लिए राहत देने वाली ये दवाईयां कई तरह के नुकसान पहुंचाती हैं। दवाइयों के नुकसान से बचने के लिए Sar Dard ka ilaaj हम कुछ घरेलू उपाय अपनाकर भी कर सकते हैं। इससे आप दवाइयों के साइड इफेक्ट से तो बचेंगे ही साथ ही सिरदर्द भी छू मंतर हो जाएगा। आइए जानते हैं सिरदर्द होता क्यों हैं और इसे दूर करने के लिए कौन से घरेलू उपाय असरदायक हैं।

Contents hide

Sar-Dard-ka-ilaaj

ये घरेलू उपाय चुटकियों में करेंगे Sar Dard ka ilaaj

सेब पर नमक डालकर खाएं मिलेगी राहत

सिरदर्द को अगर चुटकियों में ठीक करना चाहते हैं तो एक सेब को काटकर उसमें नमक मिलाएं और खा लें। फाइबर से भरपूर सेब पाचन को तो दुरुस्त रखता ही है साथ ही साथ सिर दर्द में भी राहत पहुंचाने का काम करता है।

ये भी पढ़ें- Skin Care Tips In Hindi: कम उम्र में ही झलकने लगा है बुढ़ापा तो इन 5 विटामिन की कमी का हो सकता है असर

पर्याप्त मात्रा में पियें पानी

कई बार तेज सिरदर्द की वजह शरीर में पानी की कमी भी होती है। इसलिए पर्याप्त मात्रा में पानी पीना बहुत जरूरी है। दरअसल शरीर से विषाक्त पदार्थों को दूर करने में पानी मदद करता है। इससे सिरदर्द में राहत मिलती है।

सिर दर्द में लौंग भी है मददगार-Sar Dard ka Gharelu Upay

लौंग की कुछ कलियों को तवे पर भून लें। अब इन लौंग की कलियों को एक रूमाल में बांध कर पोटली बना लें। इस पोटली को थोड़ी- थोड़ी देर में सूंघते रहे। इससे थोड़ी ही  देर में आपको सिरदर्द में आराम महसूस होगा।

इन योग अभ्यासों को भी आजमाएं

नाड़ी शोधन प्राणायाम और भ्रामरी का अभ्यास करके आप सिरदर्द को दूर भगा सकते हैं। वहीं अगर सिरदर्द की वजह मानसिक तनाव है तो ध्यान भी लाभ पहुंचाने का काम करेगा। इसके साथ ही अपनी दिनचर्या में योग और मेडिटेशन को जरूर शामिल करें। कुछ देर पैदल चलना भी लाभ पहुंचाएगा।

सिर दर्द में लाभकारी है एक्यूप्रेशर

अपनी दोनों हथेलियों को सामने की तरफ लेकर जाएं। अब एक हाथ से दूसरे हाथ के अंगूठे और इंडेक्स फिंगर के बीच की जगह पर हल्के हाथ से मालिश करें। इस प्रक्रिया को दोनों हाथों पर 4 से 5 बार दोहराएं। इसके बाद आपका सिरदर्द छूमंतर हो जाएगा।

ये भी पढ़ें- Metabolism kam kyu ho Jata Hai | क्या आप स्लो मेटाबॉलिज्म से हैं परेशान, ये आदतें हैं जिम्मेदार

सिरदर्द को करना है छूमंतर तो करें पुदीने की पत्तियों का इस्तेमाल

पुदीने की पत्तियों का इस्तेमाल आपके सिरदर्द को कुछ ही देर में छूमंतर करने में सफल हो सकता है। इसके लिए आपको पुदीने की कुछ पत्तियां चाहिए होंगी। सबसे पहले इन पत्तियों का रस निकालें और फिर इस रस को अपने माथे पर अच्छे से लगा लें। जब थोड़ी देर तक यह इस रस आपके माथे पर लगा रहेगा तो धीरे-धीरे आपको सिरदर्द में भी आराम पहुंचना शुरू हो जाएगा।

Sar-Dard-ka-ilaaj

गर्म पानी के साथ नींबू का रस मिलाकर पियें

एक गिलास गर्म पानी के साथ कुछ बूंदे नींबू का रस मिलाकर पियें। थोड़ी ही देर में आपको इसका जादुई असर दिखाई देना शुरू हो जाएगा। कई बार सिरदर्द के साथ माथे के भारीपन की समस्या का सामना करना पड़ता है। गर्म पानी और नींबू आपको इस समस्या से भी छुटकारा दिलाने में सहायक साबित होगा।

तुलसी की पत्ती का रस भी है रामबाण ईलाज- Sar Dard Ka Upay

तुलसी की पत्ती का रस भी आपके सिरदर्द को दूर करने के लिए रामबाण ईलाज साबित होता है। इसके लिए सबसे पहले तुलसी की कुछ पतियों को पानी में डालकर उबाल लें। जब इस पानी में अच्छे से उबाल आ जाए तो फिर इस पानी को आप चाय की तरह चुस्कियां लेकर पी सकते हैं। इससे आप को सिरदर्द में जल्द ही राहत मिलेगी।

बादाम का सेवन कर उठाएं लाभ

बादाम में सैलिसिन नाम का तत्व प्रचुर मात्रा में मिलता है। यह सैलिसिन किसी भी तरह के दर्द में राहत दिलाने का काम करता है। इसी वजह से सिरदर्द होने पर पेन किलर दवा लेने के बजाय आप 7 से 8 बादाम का सेवन कर सकते हैं। यह एक नेचुरल दर्द निवारक दवा की तरह काम करेगा।

ये भी पढ़ें- Stress Skin Par Kaise Asar Karta Hai : जानें कैसे तनाव आपकी स्किन पर डालता है असर   

सेब के सिरके का काढ़ा पीएं

सेब के सिरके का काढ़ा भी तेज सिरदर्द को खत्म करने में मदद करता है। इस काढ़ा को बनाने के लिए एक गिलास पानी में दो चम्मच सेब का सिरका, आधा चम्मच शहद, नींबू के रस की कुछ बूंदे मिला लें। अब इसे धीरे-धीरे पी जाएं। थोड़ी ही देर में सेब के सिरके का काढ़ा सिरदर्द में राहत पहुंचाने का काम करेगा।

नींबू की चाय भी है फायदेमंद 

नींबू की चाय भी सिरदर्द को कम करने का काम करती है। इसके लिए जब आप चाय बनाएं तो उसमे दूध का प्रयोग न करें। बस काली चाय में नींबू का रस मिलाकर पियें। यह चाय सिरदर्द को खत्म करने के साथ आपको फ्रेश भी फील करवाएगी। इसक स्वाद में इजाफा लाने के लिए आप इसमें शहद भी मिला सकते हैं।

स्ट्रेस को मैनेज करके भी मिलेगा सिरदर्द में आराम

सिरदर्द होने की मुख्य वजहों में स्ट्रेस और एंग्जायटी भी शामिल होते हैं। मेंटल हेल्थ को सही रखकर आप काफी हद तक सिरदर्द की समस्या से निजात पा सकते हैं। स्ट्रेस को मैनेज करने के लिए मेडिटेशन और योग को अपनी दिनचर्या में शामिल करें। किसी खूबसूरत जगह की सैर पर निकल जाएं और कुछ खास दोस्तों के साथ समय बिताएं।

ये भी पढ़ें- Virtual Autism : क्या आपका बच्चा भी मोबाइल देखकर खाता है खाना, यह आदत खतरनाक बीमारी को देती है दावत

आखिर सिरदर्द होता क्यों है- Sar Dard Kyu Hota Hai

सिरदर्द होने के मुख्य कारणों में नींद का पूरा न  होना, किसी बात का तनाव होना या ज्यादा शारीरिक और मानसिक परिश्रम करना, मोशन सिकनेस और अत्यधिक शोरगुल और इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के इस्तेमाल करना शामिल होता है। वहीं बहुत बार बॉडी में पानी की कमी भी सिरदर्द की वजह बनती है। साथ ही कभी-कभी लगातार हो रहा सिरदर्द किसी अन्य बीमारी के होने का संकेत भी हो सकता है।

इन कारणों से होता है सिरदर्द – Sar Dard Ke Karan

  • नींद न पूरी होना
  • मानसिक और शारीरिक थकावट
  • फ़ोन पर लगातार बात करना
  • किसी भी विषय में जरूरत से ज्यादा सोचना
  • किसी अन्य बड़ी बीमारी की वजह से
  • सिर में रक्त का प्रवाह सही से न होना
  • ज्यादा भीड़-भाड़ या शोर वाली जगह की वजह से
  • मांसपेशियों में तनाव
  • हार्मोन्स में बदलाव

FAQ-अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

सिरदर्द कब गंभीर होते हैं?

अगर आपकी नींद सिरदर्द होने की वजह से उचटती है या फिर तेज सिरदर्द होने की वजह से आप पूरी पूरी रात सो नहीं पा रहे। सिरदर्द के साथ चक्कर आना या जी मिचलाना जैसे लक्षणों को महसूस कर रहे हैं और अगर केवल सुबह के वक्त ही सिरदर्द को महसूस करते हैं तो एक बार किसी अच्छे डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

सिरदर्द और माइग्रेन में क्या अंतर है?

सिरदर्द का दर्द केवल सिर, चेहरे और गर्दन के ऊपरी हिस्से में ही होता है। इसमें दर्द की तीव्रता अलग-अलग हो सकती है। वहीं माइग्रेन का दर्द सिरदर्द की तुलना में हमेशा अधिक तीव्र होता है। साथ ही माइग्रेन में दर्द के साथ कई अन्य लक्षण भी दिखते हैं। इसमें अक्सर मतली, उल्टी, और प्रकाश और ध्वनि के प्रति अत्यधिक संवेदनशीलता शामिल होती है।

साइनस का दर्द कहाँ होता है?

आंखों, गालों और माथे के आसपास या फिर माथे नाक और चीकबोन्स के पीछे दबाव के साथ दर्द होना ही साइनस का सिरदर्द कहलाता है। आगे की और झुकने पर यह दर्द और तेज हो जाता है। दरअसल साइनस की झिल्ली में सूजन आ जाने के कारण ही साइनस के दर्द को झेलना पड़ता है। साइनस की वजह से कई लोगों को आधे सिर के दर्द की समस्या का भी सामना करना पड़ता है।

डिस्क्लेमर: यह सामग्री सलाह सहित केवल सामान्य जानकारी प्रदान करने के लिए लिखी गई है। यह किसी भी तरह से योग्य चिकित्सा राय का विकल्प नहीं है। अधिक जानकारी के लिए हमेशा किसी विशेषज्ञ या अपने चिकित्सक से परामर्श करें

 

 

 

1 thought on “Sar Dard ka ilaaj | सिर दर्द से हैं परेशान ? आजमाएं ये 11 नुस्खे, मिलेगा तुरंत आराम”

Leave a Comment